श्री अभिमन्यु अनत जी [माँरीशस के मुंशी प्रेम चंद्र ] को साहित्य अकादमी द्वारा  मानद महत्तर सदस्यता 

साहित्य अकादमी द्वारा 26 अगस्त 2014 को श्री अभिमन्यु अनत को मानद महत्तर सदस्यता प्रदान किए जाने के अवसरसाहित्य अकादमी द्वारा 26 अगस्त 2014 को श्री अभिमन्यु अनत [माँरीशस के मुंशी प्रेम चंद्र ] को मानद महत्तर सदस्यता प्रदान किए जाने के अवसर पर अभिमन्यु अनत जी से मिलने का अवसर मिला : किसने क्या कहा 

“इस पड़ाव पर आकार हर लेखक की तरह मुझे भी लगने लगा है कि जितना लिखना चाहता था उतना लिख नहीं पाया । जैसा लिखना चाहता था वैसा भी शायद नहीं ........................... कितना लिखना है अभी .............”

“लेकिन अब उम्र हो रही है । कदम लड़खड़ाते हैं और कभी कभी हांथ भी । और यह भाव तीव्र से तीव्रतर होता जाता है कि मुक्ति बोध का ब्रम्हराक्षस होना और सृजन के अधूरे पन को अपने साथ दूसरे लोक में लेकर जाना हर ईमानदार लेखक की नियति है । सुखद नियति ! ऐसा नहीं होता तो हम साहित्य से बड़े हो जाते । और इसकी कल्पना तो मैं किसी उपन्यास में भी नहीं कर सकता । मेरी रचनाएँ मुझे यह एहसास दिलाती रहती हैं कि मैं जिसके लिए लिख रहा हूँ वह सदैव मुझ से बड़ा रहा है । बड़ा रहेगा ।

साहित्य अकादमी द्वारा 26 अगस्त 2014 को श्री अभिमन्यु अनत को मानद महत्तर सदस्यता प्रदान किए जाने के अवसर

आज मेरे लिए यह सम्मान उस बड़े के नाम पर स्वीकारने के अतिरिक्त दूसरा उपाय है भी नहीं। इसलिए कि एक छोटे से देश के छोटे से लेखक के कंधों में इतना बड़ा सम्मान उठाने कि शक्ति नहीं है। सम्मान का भार भी उन्ही को सौपता हूँ जिन्हों ने प्रेरणा स्रोत बनकर सृजन का बोझ उठाया है”

- अभिमन्यु अनत

“यह सम्मान एक लेखक को देशों के मध्य साहित्यक और सांस्कृतिक सेतु बनने के लिए अपने जीवन को समर्पित करने पर प्रदान किया जा रहा है जिसे देकर यह अकादमी अपने को गौरवान्वित होने कि अनुभूति प्राप्त कर रही है “ - विश्व नाथ तिवारी अध्यक्ष साहित्य अकादमी नयी दिल्ली ।

 

 

 

 इस अवसर पर अभिमन्यु अनत को प्रधानमंत्री भारत सरकार, श्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यालय के माध्यम से पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया ।

साहित्य अकादमी द्वारा 26 अगस्त 2014 को श्री अभिमन्यु अनत को मानद महत्तर सदस्यता प्रदान किए जाने के अवसर पर मोदी द्वारा भेजा गया पुष्प गुच्छा  

 इस अवसर पर उनके बहु संख्यक मित्र ,सहयोगी , प्रशंशकों की उपस्थिती ने कार्यक्रम को नयी गरिमा प्रदान की ।

 जिसमें डा कमल किशोर गोयनका , डा सुरेश ऋतुपर्ण , दूरदर्शन के अजित राय , आकाशवाणी से लक्ष्मीश्ङ्कर बाजपई , आशीष कुमार, अनिल शर्मा , देवेंद्र देवेश  आदि 

प्रशिद्ध लेखक विचारक साहित्यकार  प्रमुख रूप से अंत तक उपस्थित रहे । - अवधेश सिंह 

साहित्य अकादमी द्वारा 26 अगस्त 2014 को श्री अभिमन्यु अनत को मानद महत्तर सदस्यता प्रदान किए जाने के अवसर

 

 

साहित्य अकादमी द्वारा 26 अगस्त 2014 को श्री अभिमन्यु अनत को मानद महत्तर सदस्यता प्रदान किए जाने के अवसर पर

 

 

 

श्री अभिमन्यु अनत का रचना संसार : कृपया कुछ उपलब्ध लिंक देखे :

1- http://www.hindisamay.com/writer/writer_details.aspx?id=30

2 - http://pustak.org/home.php?author_name=Abhimanyu%20Anat

 - http://www.amazon.com/Abhimanyu-Anat/e/B00IYEZP0E